देश की पहली महिला फोटोग्राफर जिन्होंने आजादी के बाद तिरंगा फहराने को कैमरे में किया था कैद

0
19

नई दिल्‍ली।  21वीं सदी में भले ही एक महिला फोटोग्राफर का होना बहुत सहज लगे, लेकिन
 15 अगस्‍त, 1947 को लाल किले पर ध्‍वज फहराए जाने की एेतिहासिक फोटो  अपने कैमरे में कैद करना उस वक्‍त बड़ी बात थी। घटनास्‍थल पर एक महिला के हाथों में कैमरा लोगों के लिए अचरज का विषय था। जाहिर है कि उस दौर में एक महिला फ़ोटो पत्रकार होना उनके लिए कतई आसान नहीं रहा होगा। आज हम आपको उस महिला फोटो ग्राफर के बारे में बताएंगे, जिसने सामाजिक दायरे को लांघते हुए यह कारनामा कर दिखाया।

इस मशहूर फ़ोटो-पत्रकार का नाम था होमी व्यारवाला। उन्हें भारत की पहली महिला फ़ोटो-पत्रकार होने का श्रेय प्राप्‍त है। होमी भारत के ब्रिटिश शासन से लेकर आजाद होने की अविध के दौरान देश में बदलाव के दौर की तस्‍वीरें खींचने के लिए जाना जाता है। आम तौर पर पुरुष प्रधान माने जाने वाले इस पेशे में उन्‍होंने अपनी एक अलग छाप छोड़ी।

LEAVE A REPLY