हत्या के दोसी पिता पुत्र को दस वर्ष का कारावास

0
10

झाँसी । गैर इरादतन हत्या का आरोप सिद्ध होने पर अपर सत्र न्यायाधीश प्रथम सुशील कुमार द्वितीय की अदालत मंे पिता-पुत्र को 10 वर्ष के सश्रम कारावास तथा 50-50 हजार रुपये अर्थदण्ड की सजा सुनाई गयी। जानकारी देते हुये सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता बी.के. राजपूत ने बताया कि ग्राम पसराई निवासी श्रीमती अंगूरी देवी पत्नी कृपाराम ने 24 नवम्बर 2017 को थाना टहरौली मंे तहरीर देते हुये बताया था कि शाम करीब 05 बजे देवर हरिओम पुत्र बंटे, उसका पुत्र देवेन्द्र व पत्नी केशकली आकर वाद-विवाद करने लगे। उसी समय पति कृपाराम ने बीच-बचाव का प्रयास किया तो देवेन्द्र ने लाठी से हमला कर दिया। जिससे कृपाराम गम्भीर रुप से घायल हो गया। तीनांे ने अंगूरी व उसकी सास सोमती के साथ भी मारपीट की। कृपाराम को उपचार के लिये गुरसरांय के सरकारी अस्पताल मंे ले जाया गया। जहां चिकित्सकांे ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने तहरीर के आधार पर धारा 302, 323 के तहत मुकदमा दर्ज कर आरोप पत्र न्यायालय मंे प्रेषित किया। जहां अभियोजन द्वारा प्रस्तुत गवाहों व साक्ष्यांे के आधार पर देवेन्द्र पुत्र हरिओम एवं हरिओम पुत्र बंटे को धारा 304/34 भा0द0सं0 के अन्तर्गत 10 वर्ष के कठोर कारावास, 50-50 हजार रुपये अर्थदण्ड, धारा 323/34 के अन्तर्गत 01 वर्ष के कारावास, 10-10 हजार रुपये अर्थदण्ड की सजा सुनाई गयी। अर्थदण्ड की राशि राजस्व की भांति वसूलकर 80 प्रतिशत मृतक की पत्नी एवं मां को दी जायेगी।

LEAVE A REPLY