बहनोई की हत्या के जुर्म में दो सगे भाईयों को आजीवन कारावास

0
79

झाँसी । बहनोई की हत्या का आरोप सिद्ध होने पर अपर सत्र न्यायाधीश, न्यायालय सं0 01 सुशील कुमार द्वितीय की अदालत में दो सगे भाईयों को आजीवन कारावास एवं 01-01 लाख रुपये अर्थदण्ड से दण्डित किया गया है। जानकारी देते हुये सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता फौज0 महेन्द्र सिंह ने बताया कि बाहर सैंयर गेट निवासी मो0 अंसार पुत्र स्व0 रियाज उद्दीन ने 13 अप्रैल 2015 को थाना कोतवाली में लिखित तहरीर दी थी। जिसमें बताया कि उसके भान्जे मो0 राशिद पुत्र मो0 साबिर ने तीन दिन पूर्व मोहल्ले के ही निजाम कुरैशी पुत्र स्व0 अली मुद्दीन कुरैशी की पुत्री से निकाह कर लिया था। जिसके चलते निजाम के परिजन रंजिश माने हुये थे। 13 अप्रैल की दोपहर राशिद अपने मामू इरफान के साथ निजाम के घर के सामने से निकला तो निजाम कुरैशी, अला उद्दीन पुत्रगण स्व0 अली मुद्दीन ने अपने लड़के फरीद व अजहर के साथ मिलकर राशिद को घेर लिया। फरीद ने क्रिकेट बेट से प्रहार कर दिया। अजहर ने राईफल से सिर में गोली मार दी। इसी बीच भूरे पुत्र निजाम ने भी राशिद के साथ मारपीट की। दिन दहाड़े वारदात से क्षेत्र में देहशत फैल गयी और भगदड़ मच गयी। मौके पर ही राशिद की मौत हो गयी। तहरीर में बताया कि राशिद के गले से 10 तोला सोने की चैन भी गायब है। पुलिस ने मृतक के शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम हेतु भेज दिया। सभी अभियुक्तों के विरूद्ध धारा 147, 148, 149, 302, 341, 504 एवं धारा 07 विधि विरूद्ध क्रिया कलाप निवारण अधि0 के तहत तथा अभियुक्त अजहर के विरूद्ध 25 आर्म्स एक्ट के तहत मुकदमा पंजीकृत कर कोतवाली पुलिस द्वारा आरोप पत्र न्यायालय में प्रेषित किया गया। जहां साक्ष्यों एवं अभियोजन की ओर से प्रस्तुत गवाहों के आधार पर अभियुक्त फरीद एवं अजहर को धारा 302/34 भा0द0सं0 के अन्तर्गत आजीवन कारावास एवं 01-01 लाख रुपये अर्थदण्ड, अभियुक्त अजहर को धारा 25 आर्म्स एक्ट के अन्तर्गत 02 वर्ष के कठोर कारावास एवं 05 हजार रुपये अर्थदण्ड की सजा सुनाई गयी। अर्थदण्ड की जमा धनराशि में से 80 प्रतिशत राशि राजस्व के बकाया की भांति वसूलकर बतौर प्रतिकर मृतक के विधिक वारिसान को दी जायेगी।

LEAVE A REPLY