बलवा व वाहन चोरी की बढ़ी घटनाएः एडीजी

0
21

-हत्या व लूट की घटनाओं में आयी कमी
झाँसी। प्रदेश में कानून राज स्थापित किया जा रहा है। इसी के तहत झाँसी रेंज में भी कानून राज मजबूती से स्थापित हो। ऐसी शासन की मंशा है। साथ ही कुछ जिलों में बलवा व वाहन चोरी की घटनाओं में बढ़ोत्तरी हुई है। उक्त जिलों के पुलिस अधीक्षकों को एक्शन के निर्देश दिये गये हैं।
यह बात पुलिस लाइन्स में अपर पुलिस महानिदेशक कानपुर जोन अविनाथ चन्द्र ने पत्रकारों से कही। उन्होंने उक्त जिलों का नाम लिये बगैर बताया कि कुछ जिलों में वाहन चोरी, दलित उत्पीड़न व बलवा की घटनाओं में बढ़ोत्तरी हुई है। वहीं हत्या व लूट की घटनाओं में कमी आयी है। हत्या व लूट की घटनाओं को बड़ा अपराध माना जाता है। इसमें कमी आना बढ़ी उपलब्धि है। उन्होंने बताया कि शासन के निर्देश हैं कि प्रदेश में कानून राज स्थापित किया जाए। इसी के तहत वह आज झाँसी आए हैं और उन्होंने कानून राज स्थापित करने के झाँसी रेंज के पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिये हैं।
सत्य के नजदीक रहकर करें कार्रवाई
अपर पुलिस महानिदेशक ने बताया कि सत्य के नजदीक रहकर कार्य करें। किसी को झूठे मामले में बन्द न करें। चाहे शस्त्र अधिनियम हो या फिर जुआ शराब। सही आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। नियम विरुद्ध कार्य न किया जाए।
उन्होंने बताया कि पहले जोन में एसपी स्तर के अधिकारियों की एडीजी बैठक लेते थे, लेकिन अब रेंज स्तर पर बैठक ली जाएंगी। इसके लिए एडीजी स्वयं रेंज मुख्यालय पर जाकर बैंठक लेंगे। यह नया निर्देश शासन की ओर से हाल ही में जारी किया गया है। उन्होंने बताया कि गुड गवर्नेन्स पैरा मीटर के आधार पर पुलिस कार्रवाई कर रही है।
एडीजी ने बताया कि अक्सर पेशबन्दी में झूठी रिपोर्ट लिखाकर विपक्षी को फँसा दिया जाता है। साथ ही विवेचक की भी संलिप्तता कहीं न कहीं रहती है। इस पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। विवेचना को निष्पक्षता व सबूत के आधार पर की जाए। अगर यह बात साबित होती है कि पेशबन्दी में झूठा मुकदमा दर्ज कराया गया है तो रिपोर्ट लिखाने वाले के खिलाफ कार्यवाही की जाए, ताकि कोई दूसरे के खिलाफ झूठी रिपोर्ट दर्ज न करा सके।
अविनाश चन्द्र ने बताया कि अवैध बालू खनन मामले में पुलिस की कहीं संलिप्तता नहीं है। उन्होंने बताया कि जिस वाहन में अवैध बालू पायी जाएगी, उस वाहन के मालिक के खिलाफ भी रिपोर्ट दर्ज कर कार्यवाही की जाएगी।
एक पत्रकार द्वारा करीब चार साल पहले आरटीओ की तिजोरी चोरी काण्ड का अभी तक खुलासा न होने का सवाल पूछने पर एडीजी ने कहा कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। साथ ही मौजूद पुलिस अधिकारियों का कहना था कि उन्हें भी अभी तक इस बारे में पता नहीं है।
इस मौके पर पुलिस उप महानिरीक्षक जवाहर, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जे.के. शुक्ल आदि अधिकारी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY