दबंगों के हौसले बुलन्द, ग्रामीण की मारपीट कर तोड़े हाथ, पुलिस ने दर्ज नही की रिपोर्ट

0
23

दबंगों के हौसले बुलन्द, ग्रामीण की मारपीट कर तोड़े हाथ, पुलिस ने दर्ज नही की रिपोर्ट
-एक माह से परेशान है घायल, एसएसपी से की शिकायत ं
झांसी। हमारी गुलामी करो, नही तो हम तुम्हे जानसे मार देंगे, यह कहते हुए दबंगों ने एक ग्रामीण की बेरहमी से मारपीट करते हुए उसके दोनो हाथ तोड़ दिये। घटना हुए लगभग एक माह बीत चुका है पुलिस ने पीडित की अब तक रिपोर्ट दर्ज नही की। जबकि दबंग खुलेआम घूमकर उसे और उसके परिवार को लगातार घमका रहे है और यह भी कह रहे है कि पुलिस हमारे खिलाफ कोई कार्यवाई नही करेगी। दबगों से परेशान होकर पीड़ित रायकवार समाज के कार्यवाहक जिलाध्यक्ष अखिलेश रायकवार के साथ आज न्याय के लिए एसएसपी कार्यालय पहुंचा जहां उसने एसएसपी से शिकायती पत्र के माध्यम से उक्त दबंगों के खिलाफ कार्यवाई की मांग कर अपनी जानमाल की सुरक्षा की मांग की।
जनपद के थाना टहरौली के ग्राम बघौरा निवासी सोनू पुत्र किशन रायकवार ने एसएसपी को शिकायती पत्र देते हुए बताया कि वह मजदूरी कर अपने परिवार का भरण पोषण करता है बीती 23 अगस्त को सुबह 10 बजे वह गांव में अपने काम से जा रहा था तभी रास्ते में गांव में ही रहना वाला चरन सिंह पटेल व उसके साथियों ने उसे रोक लिया। सोनू से चरन सिंह बोला कल से तुम मेरी गुलामी करोगें मेरी बंदूक लेकर मेरे साथ चलोगे यह सुनकर सोनू ने मना कर दिया। तभी गुस्सायें चरन सिंह और उसके साथियों ने उसकी बेरहमी से पिटाई कर दी। पिटाई से सोनू के दोनों हाथों की हड्डियां टूट गई। जब वह इसकी शिकायत करने थाने पहुंचा तो पुलिस ने उसकी रिर्पोट दर्ज नही की।
घटना को लगभग एक माह बीत चुका है लेकिन उसे अभी तक न्याय नही मिला। दबंग खुलेआम घूमकर लगातार उसे व उसके परिजनों को जानसे मारने की धमकी दे रहे है जिससे यह लोग काफी भयभीत है। घटना को लगभग एक माह बीत चुका है लेकिन उसे अभी तक न्याय नही मिला। दबंग खुलेआम घूमकर लगातार उसे व उसके परिजनों को जानसे मारने की धमकी दे रहे है जिससे यह लोग काफी भयभीत है। इस घटना से रायकवार में समाज से लोगों में काफी आक्रोष है
रायकवार समाज के कार्यवाहक जिलाध्यक्ष अखिलेश रायकवार ने कहा कि समाज के लोगों पर लगातार हो रहे उत्पीड़न पर अंकुश लगाने के लिए दबंगों के खिलाफ कार्यवाई होना चाहिए नही तो समाज के लोग सड़को पर उतरकर आन्दोलन करने को मजबूर हो जायेंगे।

LEAVE A REPLY