ग्राम प्रधान और शिक्षिका ने एक दूसरे पर लगाये गंभीर आरोप, पुलिस को दिया शिकायती पत्र

0
65

-कोतवाली पुलिस ने  किया मामला दर्ज
-प्रधान प्रतिनिधि ने शिक्षिका द्वारा लगाये गये आरोपो को बताया मनगढंत व निराधार
तालबेहट (रिपोर्ट अभिषेक बुन्देला)। तहसील क्षेत्रान्तर्गत ग्राम पवा के मजरा जामुनझोरा में प्राथमिक विद्यालय में तैनात एक शिक्षिका ने ग्राम प्रधान प्रतिनिधि विजय मिश्रा सहित तीन लोगों पर अभद्रता का आरोप लगाकर कोतवाली पुलिस तालबेहट को शिकायती पत्र दिया है। वही ग्राम प्रधान ने भी कोतवाली में उक्त शिक्षिका के विरुद्ध शिकायती पत्र देने का मामला प्रकाश में आया है। कोतवाली पुलिस ने दोनों प्रार्थना पत्रो पर एफआईआर दर्ज कर विवेचना प्रारम्भ कर दी है। प्राप्त जानकारी के अनुसार प्राथमिक विद्यालय पवा के मजरा जामुनझोरा में सहीयक अध्यापक के पद पर तैनात शिक्षिका हर्षमाला ने प्रधान पति के विरूद्ध कोतवाली पुलिस को प्रार्थनापत्र देकर आरोप लगाया है कि वह 17 सितम्बर को विद्यालय में अपने साथी शिक्षको के साथ मौजूद थी। तभी प्रधान पति विजय मिश्रा अपने तीन साथियों के साथ आये जो कि स्वयं एक शिक्षक है मेरे साथ अभद्रता व मारपीट करने लगे व अन्य शिक्षको के साथ अभद्रता की। वही ग्राम प्रधान ज्योती मिश्रा ने कोतवाली में एक शिकायती पत्र देकर बताया की मैने फल वितरण दिवस होने के कारण अपने प्रतिनिधि विजय मिश्रा को सभी विद्यालयों में भेजा था। प्राथमिक विद्यालय जामुनझोरा जाने पर वहाँ व्याप्त गंदिगी के वारे में कहा गया कि आज प्रधानमंत्री जी का जन्मदिवस पूरे देश में मनाया जा रहा है व विद्यालय में सफाई करवाने के लिये कहा गया तो वहा तैनात सहायक अध्यापिका हर्षमाला ने हमारे प्रतिनिधि से अभद्रतापूर्ण व्यवहार किया तथा एक अध्यापिका नीलम वर्मा अनुपस्थिती का कारण पूछा तो तत्काल अवकाश चढाने हेतु उपस्थिती रजिस्टर भी छीन लिया व अपशब्दो का प्रयोग करते हुये प्रधान को भी भददी भददी गालियां दी गई और कहा गया कि यहा मेरे विद्यालय में कोई नेतागिरि नही चलेगी व मेरे फोन पर बात करके मुझसे अभद्रता की गई। वही प्रधान पति विजय मिश्रा ने शिक्षिका द्वारा लगाये आरोपों को वेबुनियाद व निराधार बताया है। उन्हौने बताया कि उन्हे जिलाबेसिक शिक्षाधिकारी के पत्र क्रमाक एस एस ए/स्व अभियान 1903-11 के तहत परिषदीय तथा उच्च प्राथमिक विद्यालयो में स्वछता ही सेवा अभीयान चलाये जाने के संदर्भ में वह विद्यालय में वार्ता करने के लिये गये हुये थे,और स्वच्छता पखवाड़ा मनाए जाने हेतु अधिकारियों ने निर्देश दिए थे और हमारा आदर्श ग्राम होने के कारण बृहत कार्यक्रम आयोजित करना था,जिसके लिए हमे शासन द्वारा पुरुस्कृत किया गया है। विद्यालय में पड़ी गंदगी को देखकर विद्यालय में सफाई रखने के लिए कहा और कहा इस कार्यक्रम मे जो भी बाधक बनेगा उसकी शिकायत जिलाधिकारी सहित शासन को की जाएगी। जिस पर उक्त शिक्षका भडक़ गई और शिक्षिका द्वारा षडयंत्र रचकर उनके विरुद्ध मामला पंजीकृत कराया है।

निष्पक्ष जाँच कर न्याय दिलाने की मांग को लेकर ग्राम प्रधान ने दिया जिलाधिकारी को ज्ञापन
ग्राम प्रधान ज्योती मिश्रा ने जिलाधिकारी को एक ज्ञापन सौपकर बताया कि वर्तममान समय में सरकार द्वारा स्वच्छ भारत मिशन कार्यक्रम अत्यधिक जोरशोर से चलाया जा रहा है। १७ सितम्बर को माननीय प्रधानमंत्री का जन्मदिवस होने के कारण स्वक्षता कार्यक्रमो को पखबाडा मनाया जा रहा है। इसी परवेश में मै अपने पति के साथ ग्राम पवा में मैने सभी प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक विद्यालयों एवं आगंनबाडी केन्द्रों की मैने स्वयं मौके पर जाकर स्वक्षता संवधी जानकारी ली। ग्राम में पांच माध्यमिक विघालय व दो पूर्व माध्यमिक विद्यालय है। इसलिये मैने पूर्व माध्यमिक विद्यालय जामुनझोरा व प्राथमिक विद्यालय जामुनझोरा पर स्वछता संबन्धि जानकारी लेने के लिये अपने पति विजय मिश्रा को भेजा। प्राथमिक विद्यालय जामुनझोरा पर अत्याधिक गंन्दिगी देखकर जब मेरे पति ईन्चार्ज प्रधानाघ्यापिका से बात चीत कर रहे थे उसी समय विद्यालय में तैनात सहायक अध्यापिका हर्षमाला ने मेरे पती से अपशब्द कहे और लडने के लिये आमदा हो गयी। और कहा सुनी ज्यादा हो जाने पर मेरे पति विद्यालय से बाहर आकर घर चले आये। इसके बाद सहायक अध्यापिका ने कोतवाली तालबेहट आकर मेरे पति के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई। उन्हौने बताया की में आदर्श ग्राम पवा की प्रधान हाने के साथ साथ मै व मेरा परिवार एक प्रतिष्ठत श्रेणी मे आते है और मेरे पति भी पूर्व में ग्राम पवा के प्रधान री चुके है।जिनकी क्षेत्र में प्रतिष्ठा है तथा इन्ही सब चीजो को देखते हुये विरोधियों ने यह कुचक्र रचवाया है। जिससे मेरे व मेरे परिवार की प्रतिष्ठा धूमिल हो रही है। उन्हौने जिलाधिकारी से निष्पक्ष जांच कराकर न्याय दिलवाने की मा्रग की है।

प्रधान पति के पक्ष में प्रधान संगठन लामबन्द
प्रधान संगठन ने मामले को राजनीति से प्रेरित बताया कि निष्पक्ष जांच की मांग तालबेहट तहसील के ग्राम सभा पवा के मजरा जामुन झोरा मैं प्राथमिक विद्यालय की एक शिक्षिका और पवा की ग्राम प्रधान ज्योति मिश्रा के पति विजय मिश्रा की कथित कहासुनी का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है । गौरतलव है कि प्रधान पति विजय मिश्रा अपने ग्राम पंचायत के विद्यालय जामुन झोरा पहुंचे तो विद्यालय में गंदगी का अंबार देखकर उन्होंने जब वहां पर तैनात शिक्षिका से इस बारे में जवाब सवाल किया तो बताते हैं कि शिक्षिका ने प्रधान पति के साथ अभद्रता करते हुए उन्हें विद्यालय से बाहर जाने का कह दिया। और फिर आकर तालबेहट कोतवाली में विजय मिश्रा व अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करा दी। इस सामान्य सी घटना को दिया गया बड़ा तूल शिक्षक संगठन देर रात तक जब तक बीएसए कार्यालय में जमा रहा जब तक उन्होंने विजय मिश्रा को निलंबित नहीं करा लिया । शहर के लोग इस लड़ाई को शिक्षक संगठनों की लड़ाई ना मानकर भारतीय जनता पार्टी की अंदरूनी कलह भी मान रहे हैं। विपक्षी दल इस घटना को चटकारे ले लेकर जिलेभर में चर्चा कर रहे हैं। रात को शिक्षक को निलंबित किए जाने के बाद आज ग्राम प्रधान संगठन भी लामबंद हो गया उन्होंने पुलिस अधीक्षक डॉक्टर ओपी सिंह को एक प्रार्थना पत्र देते हुए मांग की की यह पूरा मामला राजनीति से प्रेरित है । लिहाजा निष्पक्ष जांच कराई जाए ज्ञापन देने वालों में संगठन के जिलाध्यक्ष जितेंद्र सिंह जीतू राजा वीरू राजा प्रधान पटेरा कला शंभू चौबे प्रधान घटवार शशिकांत दीक्षित और प्रधान प्रतिनिधि बुढ़वार अनुपम चौबे शामिल रहे।

LEAVE A REPLY