पर्यावरण संरक्षण के बिना मानव का अस्तित्व नहीं : सहगल

0
15

-पैरामेडिकल इंस्टिट्यूट में हुई पर्यावरण जागरूकता संगोष्ठी
झांसी। पर्यावरण मानव के अस्तित्व के लिए अत्यन्त आवश्यक है। इसके संरक्षण के बिना मानव का अस्तित्व बचा पाना सम्भव नही रह पायेगा। यह विचार आज बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के प्रभारी कुलपति प्रो.वी.के.सहगल ने व्यक्त किये। प्रो. सहगल पैरामेडिकल संस्थान के सभागार में मानव विकास संस्थान तथा बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के पर्यावरण एवं विकास संस्थान के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित एक दिवसीय संगोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए सम्बोधित कर रहे थे। प्रो.सहगल ने कहा कि पर्यावरण मानव जीवन का अभिन्न अंग है और इसके बिना मनुश्य जीवित नही रह पायेगा।
इस अवसर बुन्देलखण्ड महाविद्यालय के पूर्व प्राचार्य प्रो.एम.एस.निगम ने कहा कि हमारी जीवन शैली एवं रहन सहन के कारण निरन्तर पर्यावरण का होता जा रहा है। आज आवश्यकता इस बात की है कि पर्यावरण का संरक्षण किया जाय।
पैरामेडिकल संस्थान के निदेशक प्रो. एन.एस.सेंगर ने कहा कि पर्यावरण की संरक्षण हमारा नैतिक उत्तरदायित्व है। आज हम बहुत कुछ खो चुके हैं परंतु यदि हम आज भी जागरुक नहीं हुए तो हम अपने आने वाली पीढ़ियों को लिए कुछ भी देने की स्थिति में नहीं होंगे।
वहीं संगोष्ठी को सम्बोधित करते हुए बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय परिसर के पर्यावरण एवं विकास संस्थान के डा.विनीत कुमार ने उपस्थित छात्र छात्राओं का आह्वान किया वे पर्यावरण के प्रति जन जागरूकता उत्पन्न करने में सहयेग करें। उनका कहना था कि युवाओं के सहयोग के बिना पर्यावरण संरक्षण की बात करना बेमानी होगी। इससे पूर्व आज प्रातः बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के पर्यावरण एवं विकास संस्थान तथा खाद्य तकनीकी संस्थान के छात्रों ने एक पर्यावरण जागरूकता रैली निकाली। जिसे विश्वविद्यालय के अधिष्ठाता विज्ञान संकाय प्रो.एस.के.कटियार ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।
संगोष्ठी में सुश्री अनुराधा शर्मा, अशोक काका, डा.ऋषि सक्सेना सहित विभिन्न सामाजिक संस्थाओं से जुडे व्यक्ति उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY