पूर्व विधायक दीपनारायण सिंह के संयोजन में होगा अनोखा रक्षाबन्धन उत्सव

0
961

मोठ(झांसी)। प्रतिवर्षानुसार पूर्व विधायक दीपनारायण सिंह के संयोजन में आगामी 28 अगस्त को निवाड़ी म0प्र0 स्थित गल्ला मण्डी में भाई-बहिन का पवित्र सामूहिक रक्षाबन्धन महोत्सव मनाया जायेगा। 1001 सर्वजातीय बहिनो का अनोखा रक्षाबन्धन उत्सव भारतीय संस्कृति अनेकता में एकता का सोपाल के लिये विश्व की अनूठी संस्कृति हैं। इस संस्कृति में कुछ त्यौहार न केवल बन्धन के प्रतीक हैं। बल्कि एकता और भाईचारे का प्रतिबिम्ब हैं। इन्ही में से रक्षाबन्धन भाई-बहिन के प्रेम का अनूठा त्यौहार है। इतिहास में विभिन्न जाति धर्मो के भाई-बहिनो के रक्षा सूत्र बॉधने को भाईचारा बढ़ाने में अपने योगदान के रूप में प्रष्ठांकित किया हैं। आज के परिवेश में जब जातिगत, विद्वेष, धर्मगत भेदभाव ने देश की एकता को खंडित करने का प्रयास किया हैं। वहीं कुछ महान व्यक्ति अपने कृतित्व से समरसता का संदेश देकर देश के भाईचारे और सामजस्य का प्रयास कर रहे हैं। ऐसे ही क्षेत्र के गौरव के रूप में विख्यात हैं,
दीपनारायण सिंह गरौठा क्षेत्र के पूर्व विधायक जहां विभिन्न क्षेत्रो में अपने विशिष्ट कार्यो के लिए प्रसिद्ध हैं। वहीं 1001 सर्वजातीय बहिनो का कन्यादान कर स्वयं में अनेकता में एकता की जीती जागती मिशाल हैं। सन् 2004 से वर्तमान तक प्रतिवर्ष 101 क्षेत्र के असहाय परिवारो को सम्बल प्रदान कर बेटियो के हाथ पीले कर विवाह कर सुर्खियो में रहे। दीपक यादव की आज 1001 सर्वजातीय बहिने हैं। इनमें मोठ, गुरसराय,ं निवाड़ी में प्रतिवर्ष आयोजित सर्वजातीय विवाह समारोह में वैश्य, कायस्थ, साहू, यादव, राजपूत, कुशवाहा, पाल, नामदेव, खटीक, मुस्लिम, प्रजापति, अहिरवार, बाल्मीकि, बंशकार आदि विभिन्न जातियो के परिवारो की लगभग 1001 बहिनो के हाथ पीले किये हैं। जिनको प्रतिवर्ष रक्षाबन्धन के अवसर पर सपरिवार आमंत्रित कर रक्षासूत्र बॉधते हैं, तथा भेंट प्रदान कर बहिनो को बिदा करते हैं। ऐसा ही आगामी 28 अगस्त को अनोखा रक्षाबन्धन उत्सव कस्बा निवाड़ी स्थित गल्लामण्डी स्थल पर आयोजित किया जा रहा हैं।
कार्यक्रम संयोजक दीपनारायण सिंह ने इस आयोजन के सम्बन्ध में अवगत कराया कि सभी बहिनो को आमंत्रण देने के साथ क्षेत्रवासियो को भी कार्यक्रम में पधारने के लिये आमत्रण पत्र भेजे गये हैं। कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए कमेटिया गठित कर कार्यकर्ताओं को अलग-अलग जिम्मेदारिया सौपी गयी हैं। इस प्रकार के आयोजन जिसमें विभिन्न जातियो धर्मो के लोग एक मण्डप के नीचे भाईचारे के साथ भोजन करते हैं, सामाजिक समरसता के लिये निश्चित ही अनोखा मनोहारी भाई-बहिन का पवित्र रक्षाबन्धन उत्सव लोगो के लिये अनुकरणीय एवं सराहनीय होगा।

LEAVE A REPLY