ठगी के शिकार हुए कई लोग, संस्था रूपये हड़पकर हो गई रफूचक्कर

0
68

झाँसी। पं. दीनदयाल उपाध्याय के नाम से लोगों को सस्ते दामों में खाद्य सामग्री उपलब्ध कराने को लेकर ठगी करने के मामले में पुलिस ने लखनऊ से एक महिला को हिरासत में लिया है। पुलिस महिला से पूछताछ कर रही है। वहीं ठगी के शिकार हुए लोगों का हुजूम नवाबाद थाने में लगा रहा।
कुछ माह पहले किसान बाजार में मुनेश शास्त्री निवासी टुण्डला ने पं. दीनदयाल उपाध्याय समिति सेवा संस्थान के बैनर तले मानव सेवा केन्द्र का एक कार्यालय खोला था। इसमें प्रति व्यक्ति 5400 रुपये जमा कराकर लोगों को जोड़ा गया था। समिति के मुनेश शास्त्री ने कहा था कि नमक, तेल, आटा आदि सामान कम से कम मूल्य पर दिया जाएगा। इसको लेकर 180 लोग 5400-5400 रुपये जमा कर समिति से जुड़ गये थे। समिति का मुख्यालय लखनऊ में बताया गया था। इसमें जुड़ने वाले लोगों को अध्यक्ष सचिव आदि बनाया गया था। कुछ ही दिनों में संस्था से जिले के कई लोग जुड़ गये थे। जुड़े लोगों को रुपये जमा कराने के बाद सिर्फ एक बैनर दिया गया था। बाद में समिति यहाँ से भाग निकली। इसको लेकर लोगों ने जमकर हंगामा किया था। घटना की रिपोर्ट पुलिस ने दर्ज कर ली थी। इसमें मुनेश शास्त्री व लखनऊ निवासी एक महिला को आरोपी बनाया गया था। पुलिस ने लखनऊ से नीतू सिंह नाम की महिला को हिरासत में लिया है। पुलिस उसे लखनऊ से हिरासत में लेकर झाँसी आयी। यहाँ नवाबाद थाने में महिला से पूछताछ कर रही है। नीतू सिंह के पकड़े जाने की जानकारी मिलते ही ठगी के शिकार हुए लोग नवाबाद थाने जा पहुँचे। वह नीतू सिंह के खिलाफ कार्यवाही करते हुए मुनेश शास्त्री की गिरफ्तारी की माँग कर रहे थे।
इस सम्बन्ध में नीतू सिंह का कहना है कि उसका संस्था से कोई लेना देना नहीं है। उसे झूठा फँसाया जा रहा है। उसने बताया कि उसकी माँ बीमार थी। इस कारण अस्पताल में भर्ती थी। इसी दौरान मुनेश शास्त्री नाम के व्यक्ति की अस्पताल में माँ से मुलाकात हुई थी। उसने मेरे मायके का पता आदि पूछ लिया था और उसी पते के आधार पर अपना फर्जी कार्यालय खोल लिया था।

LEAVE A REPLY