शासनादेश पुलिस के ठेगे पर, अवैध खनन बताकर कृषको से स्थानीय पुलिस करती है अवैध धन उगाही

0
47

महोबा। लोकतंत्र हो या राजतंत्र मे सुरक्षा तंत्र पद भ्रष्ट हुआ है तब तब शासन सत्ता का तख्ता पलट होना सम्भावी नही सुनिश्चित होता रहा है। प्रदश की योगी सरकार के सुरक्षा तंत्र अपना कर्म और कर्तव्य भूलकर भ्रष्टाचार की ओर उन्मुख हो गया है। जिससे सत्ता मे फेर बदल होना सम्भावी है लोकतंत्र को बचाये रखने के लिए सुरक्षा तंत्र को छूट देना लोकतंत्र मे सत्ता शासको की पुनः वापसी के लिए घातक साबित हो सकता है।
प्रदेश की बागडोर संभालते ही योगी आदित्यनाथ ने सुरक्षा तंत्र को लूट खसांेट करने के लिए नही बल्कि अपराधिक घटनाओ को रोकने और अपराधियो तथा समाज विरोधी धंधो मे लिप्त लोगो पर शिंकजा कसने और उनके द्वारा किये गये कार्यो के लिए दण्ड दिलाये जाने के लिए सुरक्षा तंत्र को छूट दी गयी थी ताकि किसी मंत्री और संत्री के दबाव व प्रभाव के बगैर प्रदेश की जनता को भयमुक्त, अपराध मुक्त शासन देने का जो वादा किया था से साकार करने की मंशा निहीत थी।
ज्ञातव्य हो कि प्रदेश की योगी सरकार द्वारा कृषको को भूमिका समतलीकरण करने तथा उसकी उर्वरक शक्ति बढ़ाये जाने के लिए तालाबो की मिट्टी निकालकर खेतो मे डालने तथा कुम्हारी कला को जीवित रखने बावत मिट्टी उठाये जाने की छूट शासनादेश पारित कर दी गयी थी। जिले के तालाबो को सपा की पूर्व सरकार द्वारा लगभग एक अरब की धनराशि गहरीकरण कराया गया था जिससे जिले तथा बुन्देलखण्ड वासियो को पेयजल जैसी विभीशका से निजात मिल सके। जहाॅ एक ओर करोड़ो रूपये खर्च कर करोड़ो रूपये का खर्च कराया गया वही दूसरी ओर कृषक तालाबो से मिट्टी निकालकर अपने खेतो की उर्वरक शक्ति बढाये जाने के लिए टैक्टरो से निकाल रहा है तो उसे पुलिस कर्मी अवैध खनन बताकर कृषको से अवैध धनउगाही करने से बाज नही आ रहे है। यही कारण है कि मिट्टी न मिलने के कारण जिले की कुम्हारी कला अहिस्ता अहिस्ता दम तोड़ते चली जा रही है। जिले के कीरत सागर, मदन सागर, कल्याण सागर, बीजानगर दिसरापुर सरोवर इन तालाबो से अगर कोई कृषक मिट्टी उठाता है तो यहा तैनात पुलिस कर्मी कृषको को बेज्जत करने के साथ साथ बन्द करने की धमकी देते है।
प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गत माह स्पष्ट शासनादश जारी किया था कि कृषको तथा कुम्हारी कला के लिए मिट्टी खनन करने वालो के विरूद्ध किसी प्रकार की कोई कार्यवाही न की जाये। किसी भी तालाब की जब कोई कृषक एक ट्राली मिट्टी निकालता है तो उसमे 80 फिट पानी संग्रह की क्षमता बढ़ जाती है। और तालाब की मुफ्त मे सफाई होती है और तालाब की मिट्टी जिस खेत मे डालता है उस खेत की उर्वरक बढ़ती है परन्तु योगी सरकार का स्वछन्द हो चुका सुरक्षा तंत्र लोकतंत्र की जड़े खोदने मे लगा हुआ है। पुलिस कर्मियो द्वारा की जाने वाली अवैध धन उगाही का खामियाजा आगामी लोकसभा चुनाव मे भाजपा को भुगतना पड़ सकता है।

LEAVE A REPLY