रेलवे स्टेशन पर बिकने से पहले किशोरी बरामद

0
91

-विक्रेता व खरीददार समेत तीन बन्दी
झाँसी। ग्वालियर से अपहृत कर लायी गयी एक किशोरी को बिकने से पहले आरपीएफ ने बरामद कर लिया। इसमें एक महिला को रेलवे स्टेशन व दो को ग्वालियर से बन्दी बना लिया। पकड़े गये आरोपियों में दो महिला एवं एक पुरुष शामिल हैं।
वरिष्ठ मण्डल सुरक्षा आयुक्त रेलवे सुरक्षा बल रमेश चन्द्र के निर्देशन में प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार यादव के नेतृत्व में आरपीएफ के रेलवे स्टेशन के उप निरीक्षक घनेन्द्र सिंह प्लैटफॉर्म क्रमांक 1 पर गश्त कर रहे थे। इसी दौरान उन्हें मुखबिर से सूचना मिली कि एक किशोरी एक महिला के साथ है। महिला की गतिविधि संदिग्ध है। सूचना पर आरपीएफ टीम बताये गये स्थान पर पहुँची। इस पर महिला भागने का प्रयास करने लगी। आरपीएफ ने महिला व किशोरी को हिरासत में ले लिये। पूछताछ में महिला ने अपना नाम किरन देवी पत्नी किशन कुशवाहा निवासी सीरोनखुर्द ललितपुर बताया। साथ ही किशोरी को अपनी पुत्री बताया। शक होने पर आरपीएफ ने किशोरी को अलग से पूछताछ की। इस पर उसने अपना नाम खुशी (16) पुत्री लीलाधर चैबे निवासी पंचशील नगर बहोडापुर ग्वालियर (मप्र) बताया।
खुशी ने बताया कि 11 मई 2018 को ग्वालियर रेलवे स्टेशन से उसे बहला-फुसलाकर अपने घर ले गई थी और अपने घर पर छिपाकर रखा। 21 मई 2018 को उक्त महिला उसे बेचने की नीयत से झाँसी लेकर आई जहाँ उसे खरीदने वाले दिनेश वंशकार पुत्र स्व. गोपी वंशकार निवासी खिरिया थाना नाराठ जिला ललितपुर हाल पता सरायरोहिल्ला रेलवे स्टेशन के पास झुग्गी एवं उसकी पत्नी कृष्णा वंशकार पहुँचे थे, परन्तु आरपीएफ को देख दोनों खरीददार किरन को मोबाइल पर ग्वालियर में मिलने की सूचना देकर किसी ट्रेन से भाग गये थे।
किरनदेवी व खुशी द्वारा ग्वालियर में बताये गये ठिकाने पर छापा मारकर आरपीएफ ने दोनों खरीददार दिनेश वंशकार व कृष्णा वंशकार को दबोच लिया और झाँसी ले आयी। इसकी सूचना खुशी के पिता लीलाधर चैबे को दी गई। सूचना पाकर लीलाधर व भाई शिवम चैबे रेलवे स्टेशन आरपीएफ थाने आये। यहाँ उन्होंने बताया कि खुशी के अपहरण की रिपोर्ट बहोडापुर थाने में 12 मई को दर्ज करायी थी। आरपीएफ ने बहोडापुर थाना पुलिस को भी सूचित कर दिया है।

LEAVE A REPLY