जिला अस्पताल में दलालों का बोलवाला

0
92

-नौकरी लगवाने के नाम पर डेढ़ लाख तक अवैध वसूली करने का आरोप
-आउट सोर्सिंग कर्मचारियों ने डीएम को भेजा ज्ञापन
-एजेन्सी पंजीकरण के विरूद्ध कार्यवाही की उठायी मांग
ललितपुर। जिला अस्पताल में स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर जहां एक ओर प्रदेश में अब्बल आने का समय-समय पर प्रचार-प्रसार किया जाता है तो वहीं दूसरी ओर एक कड़वा सच यह भी है कि अस्पताल में नौकरी के नाम पर दलालों द्वारा अवैधानिक वसूली की जाती है। यह बात जिला अस्पताल में आउट सोर्सिंग पर तैनात कर्मचारियों ने ही जिलाधिकारी को ज्ञापन के माध्यम से बतायी हैं।
डीएम को भेजे ज्ञापन में आउट सोर्सिंग कर्मचारियों ने बताया कि मान्यवर कांशीराम संयुक्त जिला चिकित्सालय (पुरुष) एवं महिला में पूर्व कई वर्षों से कार्यरत वार्ड वॉय, स्वीपर इत्यादि का कार्य कर रहे हैं, किन्तु एक माह पूर्व महानिदेशक लखनऊ द्वारा किसी आउट सोर्सिंग एजेन्सी के लिए कार्यादेश कर दिया गया है। उक्त एजेन्सी के दलालों द्वारा जो चिकित्सालय परिसर में अपना डेरा जमाये हुये हैं के मार्फत नर्सिंग के लिए 80 हजार रुपये से लेकर 1.5 लाख रुपये तक जमा करवाकर लखनऊ से जाकर उक्त एजेन्सी से आदेश दिलवाकर जिला चिकित्सालय (पु.) एवं महिला में तैनाती करायी जा रही है। आरोप है कि इस पूरे मामले में मुख्य चिकित्सा अधीक्षक से जानकारी मांगी गयी तो उन्होंने स्पष्ट कह दिया कि निदेशक के आदेश का तो पालन करना ही है, जब यह कहा कि गरीब लोगों से नौकरी के नाम पर अवैध वसूली की जा रही है उसे रोका जाये तो सीएमएस ने कृत्य संज्ञान में न आने की बात कहते हुये पल्ला झाड़ लिया गया। बताया कि जब अस्पताल परिसर में दलालों द्वारा सौदा तय हो जाने के उपरान्त उक्त लोगों को लखनऊ एजेन्सी कार्यालय ले जाकर आदेश छह माह का दिला दिया जाता है। ऐसी स्थिति में उक्त दलाली प्रथा को रोके जाने की आवश्यकता पर बल दिया गया। बताया कि इस प्रकार के भ्रष्टाचार से पढ़े-लिखे नौजबान बेरोजगार दलालों के चंगुल में फंसने को विवश हैं। कर्मचारियों ने जिलाधिकारी से उक्त एजेन्सी के पंजीकरण के विरूद्ध कार्यवाही किये जाने की मांग उठायी है। ज्ञापन देते समय विष्णु कान्त तिवारी, विकास घावरी, अंकित, राहुल कुमार, मुकेश कुमार, रीना, सरबर खान, दिनेश, गोविन्द, पवन सहित अनेकों आउट सोर्सिंग कर्मचारी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY