ऐसे कैसे बन पाएगा महानगर स्मार्ट सिटी ?

0
44

-महानगर में सफाई व्यवस्था की पोल खोलता कूड़े का ढ़ेर
झांसी। प्रधानमंत्री मोदी एवं मुख्यमंत्री योगी के देश एवं प्रदेश गंदगी मुक्त कराने के अभियान को भाजपा नीति नगर निगम पलीता लगा रहा है। जिसकी एक मात्र वानगी खण्डेराव गेट से तहसील की ओर जाने वाली रोड पर फैले कूडे़ कचरा का लगा हुआ अम्बार है। इस कूड़ेकचरा के ढेर के आसपास दोनो ओर पेयजल का पान करने के लिये जल संस्थान ने नल लगाये गये है। इन नलो से नवरात्र की पूजा अर्चना व जलाभिषेक हेतु श्रद्धालु जन पानी भी ले जाते है। यही नही इसी सड़क से नगर निगम के अधिकारियों का अमला तथा सुप्रसिद्ध प्राचीन मंदिर पंचकुईयां में तथा अन्य मंदिरो सहित बाजार में जाने के लिये दिन-रात आवागमन बना रहता है। नवरात्र में पचकुइयां मंदिर में बहद मेला लगने की वजह से नवरात्र में पंचकुइयां मंदिर में बहद मेला लगने की वजह से महानगर सहित जनपद के श्रद्धालु भारी तादात में आते है।
स्वच्छ व सुन्दर महानगर बनाने का दम भरने वाला भाजपा नीति नगर निगम की नांक के नीचे की कहावत के चरितार्थ करने वाला यह मुहावरा इस मुख्य स्थान पर लगे कूड़े कचरे के ढेर से सटीक लागू हो रहा है।
महानगर को स्मार्ट सिटी बनाने का सपना संजो में क्या इसी तरह से पूर्ण होगा। यह भविष्य के गर्त में है। इसके अलावा महानगर के चैराहो पर जगह-जगह कूड़े कचरे के ढेर दृष्टि गोचर हो जायेगे। वहीं खाज में कोढ़ की कहावत को चरितार्थ करते हुये सफाई कर्मचारी उस कूड़े कचरे में आग लगा देते है। जिससे उससे निकलने वाले धुंआ के गुबार से आसपास का वातावरण प्रदूर्षित होता रहता है। जिससे वहां से निकलने वाले बदबू को सहन करते नांक पर रूमाल रखकर निकलने में ही अपना भला समझते है। इससे तो यही लगता है कि महानगर में सफाई व्यवस्था की धार्मिक त्योहार नवरात्र में ध्वस्त है तो आम दिनों में सफाई व्यवस्था का आलम क्या होता होगा यह महानगर वासियों से बेहतर कौन जान सकता है।
महानगर में जगह-जगह चैराहो चैराहो तथा छोटी-छोटी दुकानों पर लोग चटखारे मार कर मोदी व योगी द्वारा आये दिन स्वच्छता के सम्बन्ध मे दिये जाने वाले बयानो पर चर्चा करते हुये मिल जायेगे।

LEAVE A REPLY