मूल्यांकन केंद्र्र के बाहर वित्तविहीन शिक्षकों ने जलाये प्रमाण पत्र

0
47

मुर्दाबाद के नारे लगाकर जताया विरोध
उरई (जालौन)। माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षक महासभा उत्तर प्रदेश के बैनर तलेे आज बोर्ड परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन का बहिष्कार कर रहे वित्तविहीन शिक्षकों ने अर्धनग्न प्रदर्शन कर प्रमाण पत्रों का दहन किया और योगी, मोदी मुर्दाबाद के नारे लगाए।
राजकीय इंटर कालेज उरई मूल्यांकन केन्द्र के बाहर वित्तविहीन शिक्षक आरएल विश्वकर्मा, अरूण त्रिपाठी, संतोष गोस्वामी, रमाकांत द्विवेदी, प्रवेन्द्र यादव, भूपेन्द्र सिंह, मनोज तिवारी, मधुकांत द्विवेदी, दिलीप कुमार गुप्ता, अरसद खान, सुनील प्रजापति, सुशील गुप्ता, राजेश तिवारी, मनोज गुप्ता, ब्रजेश शाक्यवार, सुरेन्द्र भारती, सुखदेव सिंह पाल, शेवेन्द्र सिंह चैहान, यतेन्द्र त्रिपाठी, शिवबालक शुक्ला, बीके यादव, रविन्द्र निरंजन आदि तमाम शिक्षकों ने अपनी मांगों को लेकर अर्धनग्न होकर विरोध प्रदर्शन कर सरकार विरोधी नारे लगाए और प्रमाण पत्रों की प्रतियों का दहन किया। आंदोलनकारी शिक्षकों की मांग है कि हाईस्कूल इंटर मीडिएट परीक्षा 2018 की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन कार्य करने के लिए जारी पत्र द्वारा परीक्षक/ उपप्रधान परीक्षकक नियुक्ति किए गए है उन्हे माध्यमिक शिक्षा सेवा चयनबोर्ड, लोकसेवा आयोग उत्तर प्रदेश तथा शिक्षा विभाग द्वारा नियुक्ति किए जाने वाले प्रधानाचार्य, प्रधानाध्याक, शिक्षक की नियुक्ति में वित्तविहीन शिक्षकों का अनुभव प्रमाण पत्र विधि मान्य किया जाए। शिक्षा सत्र 2016-17 में सरकार के द्वारा प्रदान किए गए मानदेय को बहाल किया जाए, उच्चतम न्यायालय के पारित आदेश 2009 का अनुपालन करते हुए 135 उच्चीकृत जूनियन हाईस्कूलों को अनुदान सूची में शामिल किया जाए, इंटर मीडिएट परीक्षा में वर्गवार मान्यता देने का प्रावधान समाप्त कर हाईस्कूल की तरह वनवर्ग की मान्यता प्रदान की जाए।

LEAVE A REPLY