ई-लाॅटरी प्रक्रिया में 285 ठेकेदार हुये पास

0
26

झाँसी। जिले के 285 आबकारी ठेकेदारों की किस्मत सोमवार को खुल गई। ई-लॉटरी के जरिये उन्हें दुकानों का आवंटन कर दिया गया। 81 दुकानें अभी भी आवंटन के लिए शेष की बची हैं जिनके लिए बाद में ई लॉटरी डाली जाएगी।
जिले में जनपद में आबकारी की 366 दुकानें खोली जाना हैं। इनमें देसी की सर्वाधिक 233, विदेशी मदिरा की 72, बीयर की 57 एवं मॉडल शॉप चार हैं। आठ मार्च को पूरे प्रदेश में एक साथ ई लॉटरी से दुकानों का आवंटन होना था। तीन बार प्रयास किया गया लेकिन सर्वर डाउन होने से दुकानों का आवंटन न हो सका। इस पर शासन ने 19 मार्च को झाँसी सहित तीन मंडल मुख्यालयों की दुकानों की ई लॉटरी करने का फैसला किया। यह प्रक्रिया तब तक चलना है जब तक प्रदेश के हर जिले में दुकानें आवंटित नहीं हो जाती। सोमवार को प्रमुख सचिव राजस्व सुरेश चंद्रा की देखरेख में जिलाधिकारी शिवसहाय अवस्थी, उप आबकारी आयुक्त एसके राय, जिला आबकारी अधिकारी मृत्युंजय सिंह, नगर मजिस्ट्रेट सीपी तिवारी, एसपी सिटी देवेश पांडेय ने ई लॉटरी प्रक्रिया शुरू करवाई। गांधी सभागार में आबकारी ठेकेदारों के समक्ष बड़ी स्क्रीन लगाई गई। एक स्क्रीन जिलाधिकारी कार्यालय के बाहर भी लगाई गई जहां से आवंटन प्रक्रिया का सीधा प्रसारण किया गया। पारदर्शिता बरकरार रखने के लिए मीडिया की भी मौजूदगी सुनिश्चित की गई।
गांधी सभागार में कंप्यूटर पर सभी 2281 आबकारी ठेकेदारों के नाम फीड किए गए। कोड डालकर पहले देसी शराब की दुकान की ई लॉटरी खोली गई। इसके लिए 1740 ठेकेदारों ने आवेदन किया था जिसमें से 171 दुकानों का आवंटन हुआ। 60 दुकानों के लिए कोई आवेदक नहीं आया। विदेशी शराब की दुकान खोलने के लिए 795 ने इच्छा जताई थी। इसमें से 63 के नाम लॉटरी खुली और नौ दुकानों के लिए एक भी आवेदन नहीं आया। बीयर की दुकान खोलने के लिए 659 लोग आगे आए। 48 के नाम लॉटरी खुली और नौ दुकानों के लिए आवेदक नहीं मिले। मॉडल शॉप खोलने के लिए 57 लोगों ने आवेदन किया जिसमें से तीन के नाम लॉटरी खुली और एक के लिए आवेदक नहीं मिला। कुछ लोग ऐसे भी रहे जिनके नाम दो दुकानें हो गईं। इस पर आवंटन प्रक्रिया से बाहर होने वाले आवेदकों ने आपत्ति जताई। बताया गया कि जहां एकल आवेदन आया वहां बिना प्रतिद्वंद्विता के उसे दुकान आवंटित की गई, जबकि दूसरी दुकान उसे ई लॉटरी में मिली।
जिलाधिकारी ने बताया कि रिक्त दुकानों के लिए 21 से 23 मार्च तक आवेदन किए जा सकेंगे। ऑनलाइन आवेदन के बाद सभी औपचारिकताएं पूरी करने वाले ठेकेदारों के नाम कंप्यूटर पर फीड हो जाएंगे। 26 मार्च को इन दुकानों की ई लॉटरी की जाएगी।

LEAVE A REPLY