ओवरलोड मौरम भरे ट्रकों का आवागमन बेेरोकटोक जारी

0
41

-बालू माफिया लोकेशन के लिये लग्जरी वाहनों से करते रैकी
-कुछ खुलेआम तो कई तिरपाल से ढाककर चलते सड़कों पर
बंगरा (जालौन)। प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद भी ओवरलोड मौरम भरकर आने वाले वाहनों पर पूर्ण विराम नहीं लग सका है। इस मामले में पुलिस व प्रशासन के अधिकारी जिम्मेदार होते हैं लेकिन दोनों की इस ओर से आंख व कान मूंदे हुये हैं। रात के अंधेरे में मप्र से दर्जनों की संख्या में ओवरलोड ट्रक बंगरा होकर गंतव्य के लिये रवाना होते कभी भी देखे जा सकते हैं। तो वहीं बालू माफियाओं के कारिंदे जो लग्जरी वाहनों में सवार रहते है वह रैकी करते देखे जा रहे हैं।
गौरतलब हो कि जनपद में लंबे समय से मौरम खनन पर रोक लगी होने से जरूरतमंद लोग मप्र से आने वाली मौरम से ही किसी तरह से अपना काम चला रहे हैं। बताया जाता है कि भिण्ड, मिझौना, लहार होते हुये प्रतिदिन एक सैकड़ा ट्रक ओवरलोड मौरम भरकर जनपद जालौन की सीमा में प्रवेश कर बंगरा पहुंचते हैं। इसके बाद वह अपने गंतव्य के लिये रवाना होते हैं। लाल सोने की कमाई से रातों रात लाखों रुपये कमाने के लालच में जहां संबंधित थानों की पुलिस इस ओर से अपनी आंखें मूंदे हुये हैं तो वहीं अनेकों स्थानों पर तो बाकायदा पुलिस के वाहन ही इंट्री के नाम पर रात के अंधेरे में खड़े होकर ओवरलोड ट्रकों को अपनी सीमा से सुरक्षित दूसरे थाना क्षेत्र में प्रवेश कराते देखे जा सकते हैं। गोपालपुरा-बंगरा मार्ग पर दिन भर मप्र से आने वाले ओवरलोड मौरम भरे ट्रकों की लाइन लगी रहती है और जैसे ही रात का अंधेरा होता है सभी वाहन मौरम माफियाओं की देखरेख में आगे की ओर बढ़ जाते हैं। ओवरलोड वाहनों की धमाचैकड़ी से जहां सड़कें गड्ढों से युक्त हो चुकी है तो वहीं चाहे बंगरा पुलिस चैकी हो या फिर अन्य थाना क्षेत्र के जिम्मेदार पुलिस अधिकारी इस मामले में कोई रोड़ा अटकाने की हिम्मत नहीं जुटा पाते हैं। ताज्जुब की बात तो यह है कि मौरम माफियाओं के कारिंदे जो हाईटेक नेटवर्क से युक्त रहते हैं वह ओवरलोड मौरम भरे ट्रकों की फोटो उतारकर संबंधित थाना व चैकी क्षेत्र के ऐसे सिपाहियों के वाट्सशाॅप पर सेण्ड कर देते हैं जो उनकी इंट्री फीस के नाम पर मासिक नजराना जमा करते हैं। अब देखने वाले बात यह होगी कि क्या जिम्मेदार प्रशासनिक अमला ऐसे ओवरलोड वाहनों के सरपट दौड़ने पर रोक लगाता है या फिर यों ही यह धंधा चलता रहेगा यह तो समय ही बतायेगा।

LEAVE A REPLY