गौवंश के उपयोग से अन्ना प्रथा का होगा खात्मा : राजीव

0
29

झांसी। स्थानीय विकास भवन के सभागार में अध्यक्ष उ.प्र गौसेवा आयोग अध्यक्ष राजीव गुप्ता की अध्यक्षता में बैठक सम्पन्न हुई। जिसमें गौसंरक्षण तथा गौ सम्वर्धन हेतु विस्तृत चर्चा एवं विचार विमर्श हुआ।
बैठक को सम्बोधित करते हुये श्री गुप्ता ने कहा कि गौवंश के अधिकतम उपयोग से अन्नप्रथा की समस्या को जड़ से समाप्त किया जा सकता है इसके लिये गौशालायें, जिला प्रशासन, जनप्रतिनिधि मिलकर कार्य करें।
उन्होंने बैलो के उपयोग को बढ़ावा देने के निर्देश दिये जिसके लिये बैल चालित वाटर पम्प, कोल्हू, जनरेटर एवं आटा चक्कियों हेतु पशुपालको को अनुदान दिया जाये। कम्पोस्ट एवं जैविक खाद के उपयोग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से कृषि उद्यान एवं वन विभाग गौशालाओं से विभागीय उपयोग हेतु कम्पोस्ट खरीद। साथ ही गोबर एवं गौमूत्र आधारित उत्पादो यथा गोनाईल, मच्छर भगाने की कॉयल, साबुन, अगरबत्ती पंचबत्ती, पंचगव्य एवं अन्य औषधियो को बढ़ावा दिया जाये जिससे गौशालायें आत्म निर्भर हो सके।
गौशालोओ की गोचर भूमि तथा पुराने काजी हाऊस पर जहां कही भी कब्जे है उनको कब्जा मुक्ता कराया जाये। गौवंश वन्य बिहारो एवं पशु आश्रय स्थलो की शीघ्र स्थापना की जाये। नगर आयुक्त ने अवगत कराया कि नये कॉजी हाऊस का निर्माण लगभग पूरा हो गया है।
डी.आई.जी ने अवगत कराया कि गोतस्करी रोकने हेतु एस.पी. देहात व नोडल अधिकारी नामित किया गया है। जिनकी निगरानी में नियन्त्रंगणात्मक कार्यवाही चल रही है।

LEAVE A REPLY