विधिक साक्षरता शिविर में दी अधिकारों की जानकारी

0
6

झांसी। जनपद न्यायाधीश अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण प्रमोद कुमार के निर्देशानुसार आज निर्मल हृदय मटर टेरेसा होम में समाज की उपेक्षित, परित्यक्त एवं मानसिक रूप से कमजोर महिलाओं के मौलिक, विधिक अधिकारों एवं नालसा की 11 स्कीमों से सम्बन्धित विभिन्न कानूनों, योजनाओं को बेहतर तरीके से लागू कराने के सम्बन्ध में विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया।
मनोज कुमार तिवारी सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा मेंटल हेल्थ केयर एक्ट 2017 जो 7-7-2018 से प्रभावी हुआ है उसके सम्बन्ध में जानकारी देते हुये बताया कि अब तक अपराध या बीमारी समझे जाने वाले मानसिक रोग से ग्रसित व्यक्ति के अधिकारों के सम्बन्ध में उनके इलाज व राज्य की जिम्मेदारियों के बावत इस अधिनियम में प्रावधान किये गये हैं। उक्त अधिनियम आत्महत्या करने वाले को अपराधी मानने के बजाय उनके रिहेबिलिटेशन पर जोर देता है व मानसिक रोग से ग्रसित व्यक्ति को अपना इलाज चुनने का अधिकार देता है। इसी प्रकार सामान्य रोगों की तरह मानसिक रोगियों का स्वास्थ्य बीमा, मानसिक स्वास्थ्य से सम्बन्धित संस्थानों के पंजीकरण, मेंटल हेल्थ रिन्यु बोर्ड के गठन, बिजली के झटके देने जैसे तरीकों से मुक्ति तथा पुलिस व प्रशासन के कर्तव्यों को रेखांकित किया गया है। इसके अतिरिक्त कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को नालसा (मानसिक रूप से बीमार और मानसिक रूप से विकलांग व्यक्तियों के लिये विधिक सेवायें) योजना 2015 के सम्बन्ध में भी जानकारीी दी गयी। डा. रेखा चिकित्साधिकारी एवं परीक्षित सेठ सदस्य यूनिसेफ द्वारा भी अपने विचार व्यक्त किये गये।
इस अवसर पर अमित कुमार शर्मा समाजसेवी, नीरज कुमार, अबरार अहमद आदि उपस्थित रहे। सिस्टर मरीयता एन.सी. द्वारा आभार व्यक्त किया गया।

LEAVE A REPLY